पोस्ट को पढ़े और समझने की कोशिश करे।🙏

Spread the love

उनकी बेटी जब 4 साल की होती है,वह उसे #कुरान पढ़ने के लिए भेजते हैं….
और हमें आप भेज देते हो #डांसक्लासेज़ में.. वह बिटिया को उर्दू पढ़ाने के लिए #उर्दूटीचर रखते हैं…
आप हमें #इंग्लिशस्पीकिंगक्लास में भेजते हैं…
उनकी माँ अपनी बेटी को #इस्लामीरस्मोरिवाज़ सिखाती है…
आप हमें बार्बी डॉल बनाते हो और अपनी विशेषता बताने की जगह दिमाग में लड़कों से समानता की जहर भरकर #आधुनिकता और #खुलापन सिखाती हैं…
वह सिखाते हैं,अपनी बिटिया की #हिजाब के फायदे …
आप हमारे लिए #शॉर्ट्स , खुले टॉप और मिनी स्कर्ट्स खरीदते हैं…
वह सिखाते हैं अपनी बिटिया को #नमाज़ के फायदे और #रोज़ों की बरकत…
आप हमें #धार्मिककर्मकांडों से दूर रखते हैं,इसको #धर्मांधता कहते हैं… वह सिखाते हैं अपनी संतानों को #संघर्ष और #इस्लामिकसर्वोच्चता के सबक…
हमें सिखाते हो ,#सहनशीलता,सर्वधर्म समभाव,गांधी-बुद्ध और सदा समझौते की….
उनके तो भगवान भी कट्टरता सिखाते हैं
और आपने तो हमारे भगवान के असली रूप को नकार कर रसिया और आशिक बना दिया ।
अंतर देख लीजिए…हम अस्तित्व बचाने में असमर्थ हैं और उनकी विश्व मे हरी पताका लहरा रही है….
हमे अपनी सोच बदलने की आवश्यकता है..

Leave a Reply

Your email address will not be published